मानचित्र क्या है – घटक, प्रकार, रेखाचित्र मानचित्र

नमस्कार दोस्तो आपका इस लेख में स्वागत है आज हम मानचित्र अर्थात मैप के बारे में जानने का प्रयास करेंगे और साथ ही हम Map से रिलेटेड जितने भी प्रसन्न एग्जाम में आते हैं उसके बारे में जानेंगे और समझेंगे।

you can follow on telegram channel for daily update: yourfriend official

मानचित्र क्या है

  • जब हम अपनी पूरी पृथ्वी के बारे में जानना चाहते हैं तो ग्लोब हमारे लिए बहुत काम आता है।
  • लेकिन जब हम पृथ्वी के केवल 1 भाग जैसे अपने देश, राज्यों, जिलों, शहरों तथा गांव के बारे में जानना चाहते हैं तो ग्लोब हमारे लिए उतना उपयोगी नहीं होता है।
  • ऐसी स्थिति में हम Map का उपयोग करते हैं।
  • जब पृथ्वी की स्थिति या इसके किसी एक भाग को पैमाने के माध्यम से चपटी सतह पर खींचा जाता है उसे मानचित्र कहते हैं

आवश्यकता

  • ह हमारी विभिन्न आवश्यकताओं के लिए आवश्यक है।
  • Map हमें कुछ विशेष चीजों के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं।
  • यह किसी जगह की Location के बारे में जानने में मदद करते हैं।
  • हमारी पढ़ाई में भी Map का बहुत उपयोग होता है।
  • कुछ Map एक छोटे क्षेत्र को या कुछ तथ्यों को दर्शाता है।
  • दूसरी तरफ कुछ मानचित्रों में एक बडी किताब की तरह तथ्य हो सकते हैं।

प्रकार

इसके मुख्यता तीन प्रकार के होते हैं-

1. भौतिक

2. राजनीतिक

3. थिमैटिक

1. भौतिक मैप

पृथ्वी की प्राकृतिक आकृतियों जैसे पर्वतों, पठारो, मैदानों, नदियों, महासागरों इत्यादि को दर्शाने वाले मानचित्रों को भौतिक मैप कहते हैं। इसमें मुख्यता पृथ्वी के प्राकृतिक आकृतियों को दिखाया जाता है अर्थात जो आकृतियां अपने आप बने हैं, उनको दिखाया जाता है learn additionally: New Education Policy 2020

2. राजनीतिक मैप

राज्यों, नगरों, शहरों तथा गांव और विश्व के विभिन्न देशों वा राज्यों तथा उनकी सीमाओं को दिखाने वाले मानचित्रों को राजनीतिक मैप कहते हैं।

3. थिमैटिक मैप

ये Map कुछ विशेष जानकारी प्रदान करते हैं जैसे सड़क, वर्षा, वन तथा उद्योग आदि के वितरण को दर्शाने वाले मानचित्रों को थिमैटिक मैप कहते हैं।

घतक

इसके के 3 घटक होते हैं

  • दूरी
  • दिशा
  • प्रतीक

दूरी

Map एक प्रकार का आरेखण होता है जो पूरे विश्व या उसके किसी एक भाग को एक छोटे से कागज के पन्ने पर दर्शाता है।लेकिन इसे इतनी सावधानी से एक छोटे से कागज पर दर्शाया जाता है ताकि दो स्थानों की बीच की दूरी अच्छी तरह से दिखाई दे।यह तभी संभव हो सकता है जब कागज पर एक छोटी दूरी, स्थल की बड़ी दूरी को वक्त करता हो।इस उद्देश्य के लिए पैमाना चुना जाता है।पैमाना स्थल पर वास्तविक दूरी तथा Map पर दिखाए गई दूरी के बीच का अनुपात होता है।

उदाहरण के लिए, मान लो आपके विद्यालय और आपके घर के बीच की दूरी 10 किलोमीटर है। तो Map पर इस दूरी को 2 सेंटीमीटर की दूरी में व्यक्त किया जाएगा। इसका मतलब है कि रेखाचित्र का 1 सेंटीमीटर स्थल के 5 किलोमीटर आएगा। इस प्रकार से रेखाचित्र का पैमाना 1 सेंटीमीटर=5 किलोमीटर होगा।

दिशा

अधिकतर मानचित्रों में आपने देखा होगा कि ऊपर दाईं तरफ एक तीर का निशान बना होता है जैसा कि नीचे फोटो में दिख रहा है। जिसमें तीर के निशान के ऊपर अक्षर उ. लिखा हुआ है। यह तीर का निशान उत्तर दिशा को दर्शा रहा है। जिससे उत्तर रेखा कहा जाता है। चार प्रकार के मुख्य दिशाएं उत्तर दक्षिण पूर्व एवं पश्चिम हैं जिन्हें प्रधान दिग्बिंदु कहते हैं।

मानचित्र क्या है - घटक, प्रकार, रेखाचित्र मानचित्र

प्रतीक

यह तीसरा प्रमुख घटक है। किसी भी Map में किसी चीज के वास्तविक आकार एवं आकृतियों को दिखाना: जैसे- पुलों, सड़कों, नदियों, पेड़-पौधों, भवनों, रेल की पटरियों तथा कुओं आदि को दिखाना असंभव होता है। इसलिए हम Map पर किसी चीज के वास्तविक आकार या आकृति को दिखाने के लिए प्रतिको, रंगों, चित्रों, अक्षरों आदि का प्रयोग करते हैं। यह प्रतीक कम जगह लेते हैं और हमें अधिक जानकारी प्रदान करते हैं।

प्रतीकों का प्रयोग करके Map को आसानी से बनाया तथा साथ ही बड़ी आसानी से समझा भी जा सकता है।

रेखाचित्र मानचित्र

रेखाचित्र एक प्रकार का आरेखण होता है जो पैमाने पर ना आधारित होकर यद्दाश्त और स्थानीय प्रेक्षण पर आधारित होता है कभी-कभी किसी क्षेत्र के कच्चे आरेखण की आवश्यकता वहां के एक स्थान को दूसरे स्थान के सपेक्षा दिखाने के लिए होता है मान लीजिए कि आपका मित्र एक ऑफिस में काम करता है और आप भी उस ऑफिस में काम करना चाहते हैं लेकिन आपको उस ऑफिस का एड्रेस नहीं पता है तो इस स्थिति में आपका मित्र ऑफिस के एड्रेस का एक कच्चा आलेखण बना सकता है इसी चीज को रेखाचित्र कहते हैं।

खाका मानचित्र

जब किसी छोटे क्षेत्र को एक बड़े पैमाने पर खींचा जाता है तो उसे खाका मैप कहते हैं। एक छोटे पैमाने वाले मानचित्रों की अपेक्षा एक बड़े पैमाने मानचित्रों में हमें ज्यादा जानकारी प्राप्त होती है। कभी-कभी कुछ ऐसी चीजें होते हैं जिन्हें जानना हमारे लिए जरूरी होता जैसे किसी कमरे की लंबाई-चौड़ाई, किसी जगह की लंबाई-चौड़ाई, जिसे मानचित्र पर नहीं दिखाया जा सकता है। इस स्थिति में हम एक बड़े पैमाने वाले रेखा चित्र को बना सकते हैं जिससे खाका मैप कहते हैं।

1. मानचित्र क्या है?

जब पृथ्वी की स्थिति या इसके किसी एक भाग को पैमाने के माध्यम से चपटी सतह पर खींचा जाता है उसे मानचित्र कहते हैं।

2. मानचित्र के घटक क्या है?

मानचित्र के 3 घटक होते हैं:-
1. दूरी
2. दिशा
3. प्रतीक

3. मानचित्र के कितने प्रकार होते है?

मानचित्र मुख्यता तीन प्रकार के होते हैं:-
1. भौतिक
2. राजनीतिक
3. थिमैटिक

4. रेखाचित्र मानचित्र किसे कहते है?

एक कागज के पन्ने पर अपने हाथ से बनाया गया एक कच्चा आलेखण/चित्र रेखाचित्र मानचित्र कहलाता है

Your Friend

Yourfriend इस हिंदी website के founder है। जो एक प्रोफेशनल Blogger है। इस site का main purpose यही है कि आप को best इनफार्मेशन प्रोविडे की जाए। जिससे आप की knowledge इनक्रीस हो।

3 thoughts on “मानचित्र क्या है – घटक, प्रकार, रेखाचित्र मानचित्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.